What is HSN Code in GST in Hindi 2021?

Spread the love

जीएसटी (GST) को लागू हुए 4 साल से ज्यादा का समय हो गया है, लेकिन अभी भी इससे संबंधित बहुत सी चीजों को लेकर लोगों के मन में कन्फ्यूजन बरकरार है। आगे बढने से पहले GST का मतलब क्या है  इसके बारें में समझ लेते हैं.

जीएसटी (GST) एक संयुक्त टैक्स व्यवस्था है. पहले जहां कारोबारियों को अलग- अलग प्रकार के कई टैक्स (Tax) देना होता था वहीं जीएसटी आने के बाद सिर्फ एक टैक्स रह गया है. इस टैक्स का नाम है – जीएसटी (GST).

जीएसटी (GST) का पूरा नाम वस्तु एवं सेवा कर- गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स है (Goods and Services Tax) है. जीएसटी और  HSN Code  दोनों आपस में संबंधित हैं. जीएसटी HSN Code कैसे आपस में संबंधित हैं आगे जानेंगे. अब तक आपको GST अच्छी तरह समझ आ गया होगा  और आये  एचएसएन कोड (HSN Code) के बारे में समझते हैं.

HSN Code

What is HSN Code?

एचएसएन कोड (HSN Code) का मतलब है-  Harmonized System of Nomenclature. (हार्मोनाईस्ड सिस्टम ऑफ़ नॉमेनक्लेचर).

HSN कोड का अर्थ “नामकरण की सामंजस्यपूर्ण प्रणाली” है। यह प्रणाली पूरी दुनिया में वस्तुओं के व्यवस्थित वर्गीकरण के लिए शुरू की गई है। एचएसएन कोड 6 अंकों का एक समान कोड है जो 5000+ उत्पादों को वर्गीकृत करता है और दुनिया भर में स्वीकार किया जाता है। इसे विश्व सीमा शुल्क संगठन (WCO) द्वारा विकसित किया गया था और यह 1988 से लागू हुआ था।

एचएसएन कोड (HSN CODE) को हिंदी में में वस्तुओं का वर्गीकरण का तरीका कहते हैं (HSN Code in Hindi). HSN कोड वस्तुओं और सेवाओं के वर्गीकरण का एक अन्तराष्ट्रीय तरीका हैं। एचएसएन कोड को GST व्यवस्था के अंर्तगत वस्तुओं को वर्गीकृत करने के लिए प्रयोग किया जाता हैं।

जीएसटी (GST) व्यवस्था के तहत बेची जा रही हर वस्तु के सही वर्गीकरण और उन पर लागू होने वाली टैक्स की दर को निश्चित करने के लिए एचएसएन (HSN) कोड बनाये गए है। यह कोड 2 अंक, 4 अंक, 6 अंक और 8 अंक के हो सकते हैं। बेची जाने वाली हर वस्तु का एक अलग कोड तय किया गया है। हर वस्तु पर टैक्स की दर अलग होगी, यही कारण है कि टैक्स रेट के विवाद से बचने के लिए विभिन्न वस्तुओं के 2 हज़ार कोड बनाये गए हैं। हर वास्तु का HSN Code  होता है

HSN in India

भारत 1971 से विश्व सीमा शुल्क संगठन (डब्ल्यूसीओ) का सदस्य है। यह मूल रूप से सीमा शुल्क और केंद्रीय उत्पाद शुल्क के लिए वस्तुओं को वर्गीकृत करने के लिए 6 अंकों के एचएसएन कोड का उपयोग कर रहा था। बाद में सीमा शुल्क और केंद्रीय उत्पाद शुल्क ने कोड को अधिक सटीक बनाने के लिए दो और अंक जोड़े, जिसके परिणामस्वरूप 8 अंकों का वर्गीकरण हुआ।

Services Accounting Code (SAC) in GST

माल की तरह, सेवाओं को भी मान्यता, माप और कराधान के लिए समान रूप से वर्गीकृत किया जाता है। सेवाओं के लिए कोड को सर्विसेज अकाउंटिंग कोड या SAC कहा जाता है।

उदाहरण के लिए:

पेटेंट, कॉपीराइट और अन्य बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबंधित कानूनी दस्तावेज और प्रमाणन सेवाएं– 998213

  • सभी सेवाओं के लिए पहले दो अंक समान हैं अर्थात 99
  • अगले दो अंक (82) सेवा की प्रमुख प्रकृति का प्रतिनिधित्व करते हैं, इस मामले में, कानूनी सेवाएं
  • अंतिम दो अंक (13) सेवा की विस्तृत प्रकृति का प्रतिनिधित्व करते हैं, यानी पेटेंट आदि के लिए कानूनी दस्तावेज।

Why HSN Code is Important in Under GST?

गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स लागू करते वक्त किस वस्तु पर कितना टैक्स लगेगा, इसे स्पष्ट बनाने के लिए बेची जाने वाली हर वस्तु का एक अलग कोड बनाया गया। मसलन, साइकल पर टैक्स की दर अगर 5% है, तो साइकल के कलपुर्जों पर यह दर 12% हो सकती है। इसलिए जब कोई व्यापारी साइकल बेचता है, तो उसका HSN कोड अलग होता है और जब वह साइकल के पार्ट्स बेचेगा तो उसका कोड अलग होता है। इसी तरह से सोने के गहने और हीरे-मोती के जेवरों का कोड अलग अलग होगा और इनपर टैक्स की दर भी अलग अलग हो सकती है 

एचएसएन कोड का उद्देश्य जीएसटी को व्यवस्थित और विश्व स्तर पर स्वीकार्य बनाना है।

एचएसएन कोड माल का विस्तृत विवरण अपलोड करने की आवश्यकता को हटा देगा। इससे समय की बचत होगी और जीएसटी रिटर्न स्वचालित होने के बाद से दाखिल करना आसान हो जाएगा।

एक डीलर या सेवा प्रदाता को अपने GSTR-1 में बिक्री का HSN/SAC-wise सारांश प्रदान करना होगा यदि उसका कारोबार निचे दिए हुए  स्लैब में आता है।

 HSN – wise summary of outward supplies

अनुभागों के लिए एचएसएन कोड सूची

धारा 1  जीवित पशु, पशु उत्पाद

धारा २ सब्जी उत्पाद
धारा 3 पशु या वनस्पति वसा और तेल और उनके दरार उत्पाद, तैयार खाद्य वसा, पशु या वनस्पति मोम wax
धारा 4 तैयार खाद्य पदार्थ, पेय पदार्थ, स्प्रिट और सिरका, तंबाकू और निर्मित तंबाकू के विकल्प
धारा 5 खनिज उत्पाद
धारा 6 रसायनों या संबद्ध उद्योगों का उत्पाद
धारा 7 प्लास्टिक और उसकी वस्तुएँ, रबर और उसकी वस्तुएँ
धारा 8 कच्ची खाल और खाल, चमड़ा, फरस्किन और उसके लेख, काठी और हार्नेस, यात्रा के सामान, हैंडबैग और इसी तरह के कंटेनर, पशु आंत के लेख (रेशम-कीट आंत के अलावा)

धारा 9 लकड़ी और लकड़ी की वस्तुएं, लकड़ी का कोयला, कॉर्क और कॉर्क की वस्तुएं, स्ट्रॉ के निर्माता, एस्पार्टो या अन्य प्लेटिंग सामग्री, बास्केटवर्क और विकरवर्क
धारा १० लकड़ी या अन्य रेशेदार सेल्यूलोसिक सामग्री का गूदा, बरामद (अपशिष्ट और स्क्रैप) कागज या पेपरबोर्ड, कागज और पेपरबोर्ड और उसके लेख
धारा 11 कपड़ा और वस्त्र लेख
धारा 12 फुटवियर, हेडगियर, छाता, सन अम्ब्रेला, वॉकिंग-स्टिक्स, सीट-स्टिक्स, चाबुक, घुड़सवारी-फसल और उसके हिस्से, तैयार पंख और उससे बने लेख, कृत्रिम फूल, मानव बाल के लेख
धारा 13 पत्थर, प्लास्टर, सीमेंट, अभ्रक, अभ्रक, या इसी तरह की सामग्री, सिरेमिक उत्पाद, कांच और कांच के बने पदार्थ के लेख
धारा १४ प्राकृतिक या सुसंस्कृत मोती, कीमती या अर्ध-कीमती पत्थर, कीमती धातु, कीमती धातु से ढकी धातु, और उसकी वस्तुएँ, नकली आभूषण, सिक्के
धारा 15 बेस मेटल्स और बेस मेटल की वस्तुएं
धारा 16 मशीनरी और यांत्रिक उपकरण, विद्युत उपकरण, उसके पुर्जे, ध्वनि रिकॉर्डर और पुनरुत्पादक, टेलीविजन छवि और ऐसे रिकॉर्डर और पुनरुत्पादक, और ऐसे लेख के पुर्जे और सहायक उपकरण
धारा 17 वाहन, विमान, जहाज और संबद्ध परिवहन उपकरण
धारा 18 ऑप्टिकल, फोटोग्राफिक, सिनेमैटोग्राफिक, माप, जांच, सटीक, चिकित्सा या शल्य चिकित्सा उपकरण और उपकरण, घड़ियां और घड़ियां, संगीत वाद्ययंत्र, भागों और सहायक उपकरण
धारा 19 हथियार और गोला बारूद, उसके पुर्जे और सहायक उपकरण
धारा २० विविध विनिर्मित वस्तुएं
धारा 21 कला के कार्य, संग्राहक के टुकड़े और प्राचीन वस्तुएं

What Is HSN Full Form | HSN Codes (8 Digit) That Actually Better In Goods

What is GST Code?

जब से वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी (GST) व्यवस्था लागू हुई तब से सभी राज्यों को एक यूनिक कोड प्रदान किया गया है. जीएसटी कोड 5 अंक की एक जीएसटी पहचान संख्या (जीएसटीआईएन) संख्या होती है.  राज्य कोड एक ही पैन के लिए अद्वितीय राज्यवार जीएसटीआईएन पेन का पहचान प्रदान करता है|

 

Why HSN Code Information is Important?

किसी भी तरीके के माल बेचने के बाद जब बिक्री बिल जारी किया जाएगा, तब उस बिल में बेची जा रही वस्तु का HSN कोड लिखना जरुरी होगा। इसलिए व्यापारियों को बेची जाने वाली वस्तु के कोड की जानकारी रखनी होगी। GST का रिटर्न ऑनलाइन जमा करते वक़्त किस कोड का कितना माल ख़रीदा और बेचा गया, इसकी जानकारी देनी होगी। इस व्यवस्था से इनपुट टैक्स रिबेट क्लेम करने की सहूलियत होगी।

How to Get HSN Code Information?

वस्तुओं के HSN कोड की जानकारी इंटरनेट के जरिए विभिन्न वेबसाइट, GST अधिकारी, जल्द शुरू होने वाली सरकार द्वारा हेल्पलाइन सेवा, C.A और कर सलाहकारों से पता किया जा सकता है। कोड की जानकारी पाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करिए

HSN Code List:-https://cbic-gst.gov.in/gst-goods-services-rates.html

HSN in GST

HSN codes to be declared up to 31st March 2021:

Turnover* No. of digits of HSN to be declared
Upto 1.5 crore                          0
1.5 crore- 5 crore                          2
More than 5 crore                          4

Declaration of HSN Code for Goods and Services

HSN codes to be declared from 1st April 2021:

(Vide CGST notification number 78/2020 dated 15th October 2020)

Turnover* Type of Invoice document No. of digits of HSN to be declared
Up to 5 crore Mandatory for B2B tax invoices       4
Optional for B2C tax invoices       4
More than 5 crore Mandatory for all invoices       6

*पिछले वित्तीय वर्ष के लिए वार्षिक कुल कारोबार, यानी वित्त वर्ष 2021-22 में चालान की रिपोर्टिंग के लिए, संदर्भित होने वाला कारोबार वित्त वर्ष 2020-21 का होना चाहिए।

  • ये एचएसएन कोड जीएसटी के तहत करदाता द्वारा जारी किए गए प्रत्येक कर चालान में घोषित किए जाने चाहिए।
  • जीएसटी के तहत निर्यात और आयात के मामले में एचएसएन कोड के सभी 8 अंक अनिवार्य हैं।

यह भी पढ़े :-

  1. What is GST Composition Scheme in Hindi?
  2. What is E-invoice in GST in Hindi 2021 ?
  3. What is GST on Gold & GST Rate 2021 ?
  4. New Business Ideas 2021 India in Hindi

 

2150cookie-checkWhat is HSN Code in GST in Hindi 2021?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post

GST: जीएसटीआर 9 कैसे भरें | How To File GSTR- 9 (Form format in Hindi)GST: जीएसटीआर 9 कैसे भरें | How To File GSTR- 9 (Form format in Hindi)

Spread the loveजीएसटी में रजिस्टर्ड हर कारोबारी के लिए GSTR-9 भरना अनिवार्य फिर चाहे उसका टर्नओवर कितना भी कम हो। इसमें कोई रियायत नहीं है। इस रिटर्न को साल में एक बार भरना होता है। फिलहाल आप वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 30 जून 2020 तक रिटर्न भर सकते हैं।

Blog Kaise Banaye 2021 me? How to start A Blog in 2021 ?Blog Kaise Banaye 2021 me? How to start A Blog in 2021 ?

Spread the loveBlog Kaise Banaye – नमस्कार दोस्तों, जो भी लोग बहुत दिनों से कोई Free Blogging Course या फिर Blog Kaise Banaye के खोज रहे थे, तो मैं आज आप सभी के लिए ये कोर्स लेकर के आ गया हूँ। अगर आपको ब्लॉग्गिंग के बारे में थोड़ी बहुत भी जानकारी

क्यों भारत में आज भी ट्रैफिक नियम का पालन ठीक से नहीं होता है ?क्यों भारत में आज भी ट्रैफिक नियम का पालन ठीक से नहीं होता है ?

Spread the loveदोस्तों मेरे मन में बहुत दिन से ये बात घूम रहा था और खुद से सवाल कर रहा था की क्यों भारत में आज भी ट्रैफिक नियमो का पालन ठीक से नहीं हो रहा है जैसे की आपलोग देखते होंगे भारत के अलावा बाँकी जो भी देश है